धातु और अधातु

प्रथ्‍वी पर मौजूद सभी पदार्थ तत्‍वो के बने होते हैं. तत्‍वो को उनके गुणधर्मो के आधार पर मुख्‍यत: दो भागों मे बांटा जा सकता है - धातु और अधातु. आवर्त सारणी मे कुल 118 तत्‍वो मे से 91 तत्‍व धातु हैं जबकि 27 तत्‍व अधातु हैं. धातु आवर्त सारणी मे बायीं तरफ तथा अधातु आवर्त सारणी मे दायीं तरफ दिये गये हैं.

धातु एक ऐसे कठोर पदार्थ हैं जो विद्युत के अच्छे चालक होते हैं. धातु प्राय: उन तत्‍वो को कहा जाता है जो सामान्‍य रासायनिक अभिक्रियाओ के दौरान अपने परमाणुओं मे से एक या एक से अधिक इलैक्‍टान त्‍यागकर धनायन बनने की प्रव्रत्ति रखते हैं. धातुओ को धन विद्यु‍ती तत्‍व भी कहा जाता है. जैसे लोहा तॉबा सोना चादी आदि.

अधातु उन्‍हे कहा जाता है जो रासायनिक अभिक्रियाओ के दौरान एक या एक से अधिक इलेक्‍टान ग्रहण करके ऋणायन बनाने की प्रवत्ति रखते हैं. अधातुओ को ऋण विद्युतीय तत्‍व भी कहा जाता है. जैसे आयेाडीन ब्रोमीन कार्बन सल्‍फर आदि.

उपयोग

  1. धातुएं मजबूत अघातवर्धनीय तथा तन्‍य होती हैं, जिससे इन्‍हें बर्तन, औजार, बड़ी-बड़ी संरचनायें, आदि बनाने मे प्रयोग मे लाया जाता है.
  2. धातुओ के क्‍लोराइड जैसे सोडियम क्‍लोराइड जिसे साधारण नमक कहा जाता है का प्रयोग हम दैनिक जीवन में नमक के रूप मे करते हैं. यह मांस-मछली का परिरक्षण करने मे भी प्रयोग मे लाया जाता है.
  3. नीला थोथा जिसका रासायनिक नाम कॉपर सल्‍फेट होता है का प्रयोग विद्युत बैटरियों तथा विद्युत लेपन मे किया जाता है.
  4. सिल्‍वर ब्रोमाइड का प्रयोग फोटोग्राफी मे किया जाता है.
  5. सोडियम कार्बोनेट का प्रयोग जल को मृदु करने मे किया जाता है.
  6. लूनर कास्टिक का प्रयोग मतदान के दौरान प्रयोग मे लाई जाने वाली अमिट स्‍याही बनाने मे किया जाता है.
  7. अधातुओ मे आक्‍सीजन का प्रयोग श्वसन क्रिया मे किया जाता है.
  8. नाइट्रोजन का प्रयोग प्रशीतन के कार्य मे किया जाता है. इसका प्रयोग यूरि‍या बनाने मे भी किया जाता है.
  9. हाइ्रइ्रोजन का प्रयोग राकेट ईधन के रूप मे कि‍या जाता है. यह वनस्‍पति घी के उत्‍पादन मे भी प्रयोग किया जाता है.

धातु तथा अधातुओ से संबधित कुछ महत्‍वपूर्ण बातें

  1. सबसे हल्‍की धातु लिथियम होती है.
  2. सबसे भारी धातु ओसमियम होती है.
  3. विद्युत की सबसे अधिक चालकता चॉदी की होती है.
  4. अधातुओ के ऑक्‍साइड अम्‍लीय तथा धातुओ के आक्‍साइड क्षारीय होते हैं.
  5. सभी धातुएं उष्‍मा और विद्युत की सुचालक होती हैं.
  6. एल्‍यूमिलियम, जिंक तथा टिन के ऑक्‍साइड उभयधर्मी होते हैं.
  7. धातुओ मे पारा मिलाकर अमलगम बनाया जाता है.
  8. लोहा निकिल तथा कोबाल्‍ट को छोड़कर अन्‍य धातुओ मे चुंब‍कीय गुण नही पाये जाते हैं.

आइये धातु और अधातु के बारे में बेहतर तरीके से समझने के लिये एक वीडियो देखते हैं

और अब धातु और अधातु के रासायनिक गुणों के संबंध में भी एक वीडियो देखते हैं

1

Add Your Comments Here

Visitor No. : 2767893
Site Developed and Hosted by Alok Shukla