स्टार्ट- अप इंडिया
Start Up India
विस्‍त्रत नोट देखने के लिए शीर्षक पर क्लिक करें. Please click on the Heading to see the detaied Note

स्टार्ट- अप इंडिया - (हिन्‍दी में)

Start Up India - (In English)

स्टार्ट- अप इंडिया

"स्टार्टअप इंडिया - स्टैंडअप" इंडिया योजना प्रधानमंत्री श्री ‎नरेन्द्र‬ ‪‎मोदी‬ जी ने स्वतंत्रता दिवस 2015 के भाषण में घोषित की और 16 जनवरी 2016 को प्रारंभ हुई.

स्टार्ट अप क्या है यदि कोई बिज़नेस निम्नलिखित शर्तें पूरी करता है तो स्टार्ट अप माना जायेगा -

  1. साधारण स्टार्ट अप के लिये निगमन / पंजीकरण की तिथि से 7 साल तक और जैव प्रौद्योगिकी स्टार्टअप के लिए के लिए ऊपर और 10 वर्ष तक
  2. प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या पंजीकृत साझेदारी फर्म या सीमित देयता भागीदारी के रूप में पंजीकृत
  3. किसी भी वित्तीय वर्ष के लिए कारोबार 25 करोड़ रुपये से अधिक नहीं
  4. इकाई का गठन पुराने व्यवसाय या पुनर्निर्माण या विभाजन करके नहीं किया गया हो
  5. रोजगार सृजन या धन सृजन का एक उच्च क्षमता के साथ एक स्केलेबल व्यापार मॉडल हो जो नवाचार, विकास या उत्पादों या प्रक्रियाओं या सेवाओं के सुधार के लिये हो
  6. स्टार्ट अप को मिलने वाले लाभ -

    1. स्टार्ट अप कारोबारियों को व्यावसाय शुरू होने के पहले तीन साल तक मुनाफे पर इनकम टैक्स से छूट होगी.
    2. ऐसे उद्यमों में वित्तपोषण को बढ़ावा देने के लिए उद्यमियों व्दारा किए गए निवेश के बाद अपनी संपत्ति बेचने पर 20% की दर से लगने वाले पूंजीगत लाभ टैक्स से भी छूट होगी.
    3. सरकार की ओर से एक राष्ट्रीय ऋण गारंटी ट्रस्ट कंपनी बनाने का प्रस्ताव है जिसमें अगले चार साल तक सालाना 500 करोड़ रुपये का बजट आवंटन किया जाएगा.
    4. पेटेंट पंजीकरण में इन उद्यमों को पंजीकरण शुल्क में 80% छूट दी जायेगी.
    5. दिवाला कानून में स्टार्ट अप उद्यमों को कारोबार बंद करने के लिए सरल निर्गम विकल्प देने का प्रावधान भी किया जायेगा। इसके तहत 90 दिन की अवधि में ही स्टार्ट अप अपना कारोबार बंद कर सकेंगे.
    6. छात्रो के लिए इनोवेशन के कोर्स शुरू किये जायेंगे और 5 लाख विद्यालयों में 10 लाख बच्चो पर फोकस किया जायेगा.
    7. स्व:प्रमाणन आधारित अनुपालन व्यवस्था से स्टार्टअप पर नियामकीय बोझ कम होगा.
    8. स्टार्टअप को वित्तपोषण का समर्थन देने के लिये सरकार 2,500 करोड़ रुपये का शुरुआती कोष बनाएगी जिसमें अगले 4 साल के दौरान कुल 10,000 करोड़ रूपये का कोष होगा.
    9. सरकार इन उद्यमों को सरकारी खरीद एवं सरकारी ठेकों में भी कई तरह की छूट देगी. स्टार्ट अप उद्यमों को सरकारी ठेकों में अनुभव और कारोबार सीमा के मामले में छूट दी जायेगी./li>
    10. इसमें महिलाओ के लिए विशेष व्यवस्था की गयी है.
    11. भारत में स्टार्ट अप की असफलता के कारण एक अनुमान के अनुसार 100 में 90 स्टार्ट अप फेल होते रहे हैं. इसके प्रमुख कारण हैं -

      1. बाज़ार में एक ही प्रकार के स्टार्ट अप की भीड़
      2. बिना बाज़ार की मांग को जाने प्रारंभ किये गये स्टार्ट-अप
      3. विस्तार का प्रबंधन न कर पाना
      4. अच्छे कर्मचारियों की कमी
      5. प्रतिभा की कमी

Start Up India

"Start Up India - Stand Up India" scheme was announced by Prime Minister Shri Narendra Modi in his Independence Day speech in 2015. The scheme was launched on 16th January 2016.

What is a Start Up A business will be considered a Start Up if it fulfils the following conditions -

  1. For ordinary Start Up within 7 years of its registration / incorporation date and for Start Ups in Biotechnology sector up to 10 years.
  2. Registered as a Private Limited Company or Partnership Firm or limited liability partnership.
  3. Turn over not more than 25 crores in any financial year.
  4. The unit should not have been made by restructuring or bifurcation of old business.
  5. Should be a scalable business model for generation of employment or money which is innovative, and for improvement in products, processes or services.

Benefits for Start Ups -

  1. Exemption from income tax on profits for first three years of operations.
  2. Exemption from 20% capital gains tax on sale of property.
  3. There is a proposal to make a National debt guarantee trust in which a annual budget allocation of Rs 500 crores will be done for the next four years.
  4. 80% rebate on patent registration fees.
  5. Easy exit options under bankruptcy laws so that exit is possible within 90 days.
  6. Innovation courses for students with focus on 10 lakh children in 5 lakh schools.
  7. Self-attestation will to allowed to reduce regulatory burden.
  8. Initial fund of Rs 2500 crores for financial assistance to Start Ups which will be increased to 10000 crores in the next 4 years.
  9. Many exemptions in the rules for government procurement from Start Ups. Exemption from the requirement of experience in government contracts.
  10. Special provisions for women.

Reasons for failure of Start Ups in IndiaAccording to an estimate 90 out of 100 Start Ups fail. The main reasons for this are -

  1. Large number of similar Start Ups in the market.
  2. Start Ups without assessing the demand in the market.
  3. Unable to manage expansion.
  4. Lack of good employees.
  5. Lack of talent.

Visitor No. : 649009
Site Developed and Hosted by Alok Shukla