छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण
Chhattisgarh State Formation
विस्‍त्रत नोट देखने के लिए शीर्षक पर क्लिक करें. Please click on the Heading to see the detaied Note

छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण - (हिन्‍दी में)

Chhattisgarh State Formation- (In English)

छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण

  1. 2 नवंबर 1861 को मध्य प्रांत का गठन हुआ. इसकी राजधानी नागपुर थी. मध्यप्रांत में छत्तीसगढ़ एक ज़ि‍ला था.
  2. 1862 में मध्य प्रांत में पांच संभाग बनाये गये जिसमें छत्तीसगढ़ एक स्वतंत्र संभाग बना, जिसका मुख्यालय रायपुर था.
  3. सन् 1905 में जशपुर, सरगुजा, उदयपुर, चांगभखार एवं कोरिया रियासतों को छत्तीसगढ़ में मिलाया गया तथा संबलपुर को बंगाल प्रांत में मिलाया गया. इसी वर्ष छत्तीसगढ़ का प्रथम मानचित्र बनाया गया.
  4. सन् 1918 में पंडित सुंदरलाल शर्मा ने छत्तीसगढ़ राज्य का स्पष्ट रेखा चित्र अपनी पांडुलिपि में खींचा अतः इन्हें छत्तीसगढ़ का प्रथम स्वप्नदृष्टा व संकल्पनाकार कहा जाता है.
  5. सन् 1924 में रायपुर जिला परिषद ने संकल्प पारित करके पृथक छत्तीसगढ़ राज्य की मांग की.
  6. सन् 1939 में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में पंडित सुंदरलाल शर्मा ने पृथक छत्तीसगढ़ की मांग रखी.
  7. सन् 1946 में ठाकुर प्यारेलाल ने पृथक छत्तीसगढ़ मांग के लिए छत्तीसगढ़ शोषण विरोध मंच का गठन किया जो कि छत्तीसगढ़ निर्माण हेतु प्रथम संगठन था.
  8. सन् 1947 स्वतंत्रता प्राप्ति के समय छत्तीसगढ़ मध्यप्रांत और बरार का हिस्सा था.
  9. सन् 1953 में फजल अली की अध्यक्षता में भाषायी आधार पर राज्य पुनर्गठन आयोग के समक्ष पृथक राज्य की मांग की गई.
  10. सन् 1955 रायपुर के विधायक ठाकुर रामकृष्ण सिंह ने मध्य प्रांत के विधानसभा में पृथक छत्तीसगढ़ की मांग रखी जो की प्रथम विधायी प्रयास था.
  11. सन् 1956 में डा. खूबचंद बघेल की अध्यक्षता में छत्तीसगढ़ महासभा का गठन राजनांदगांव जिले में किया गया. इसके महासचिव दशरथ चौबे थे. इसी वर्ष मध्यप्रदेश के गठन के साथ छत्तीसगढ़ को मध्यप्रदेश में शामिल किया गया.
  12. सन् 1967 में डॉक्टर खूबचंद बघेल ने बैरिस्टर छेदीलाल की सहायता से राजनांदगांव में पृथक छत्तीसगढ़ हेतु छत्तीसगढ़ भातृत्व संघ का गठन किया जिसके उपाध्यक्ष व्दारिका प्रसाद तिवारी थे.
  13. सन् 1976 में शंकर गुहा नियोगी ने पृथक छत्तीसगढ़ हेतु छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा का गठन किया.
  14. सन् 1983 में शंकर गुहा नियोगी के व्दारा छत्तीसगढ़ संग्राम मंच का गठन किया गया. पवन दीवान व्दारा पृथक छत्तीसगढ़ पार्टी का गठन किया गया.
  15. सन् 1994 में तत्कालीन साजा विधायक रविंद्र चौबे ने मध्य प्रदेश विधानसभा में छत्तीसगढ़ निर्माण सम्बन्धी अशासकीय संकल्प प्रस्तुत किया गया जो सर्वसम्मति से पारित हुआ.
  16. 1 मई 1998 को मध्यप्रदेश विधान सभा में छत्तीसगढ़ निर्माण के लिए शासकीय संकल्प पारित किया गया.
  17. 25 जुलाई 2000 को श्री लालकृष्ण आडवाणी व्दारा लोकसभा में विधेयक प्रस्तुत किया गया. 31 जुलाई 2000 विधेयक लोकसभा में पारित किया गया. 3 अगस्त 2000 राज्यसभा में विधेयक प्रस्तुत किया गया और 9 अगस्त 2000 को राज्यसभा में पारित किया गया. इसे 25 अगस्त 2000 तत्कालीन राष्ट्रपति के आर नारायण ने मध्‍य्रपदेश राज्‍य पुर्नगठन अधिनियम का अनुमोदित किया.
  18. 1 नवंबर 2000 भारतीय संविधान के अनुच्छेद 3 के तहत छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना हुई. छत्तीसगढ़ देश का 26वां राज्य बना. छत्तीसगढ़ का निर्माण मध्यप्रदेश के तीन संभाग रायपुर, बिलासपुर एवं बस्तर के 16 जिलों, 96 तहसीलों और 146 विकासखंडों से किया गया. प्रदेश की राजधानी रायपुर को बनाया गया तथा बिलासपुर में उच्च न्यायालय की स्थापना की गई.
  19. छत्तीसगढ़ में विधान सभा की प्रथम बैठक 14 दिसंबर 2000 से 20 दिसंबर 2000 तक रायपुर में राजकुमार कॉलेज के जशपुर हाल में हुई.

Chhattisgarh State Formation

  1. Central Provinces was formed on 2nd November 1861. Nagpur was its capital. Chhattisgarh was a district in Central Provinces.
  2. Chhattisgarh became a Commissioner’s division when five divisions were made in Central Provinces in 1862. Raipur was its headquarters.
  3. Five princely states Jashpur, Surguja, Udaipur, Changbakhar, and Koria were included in Chhattisgarh from the Chhota Nagpur area of Bengal Province in 1905 and Sambalpur was removed from Chhattisgarh and added to Odisha area of Bengal province. First map of Chhattisgarh was made in this year.
  4. In 1918 Pt. Sunderlal Sharma published the map of Chhattisgarh in his manuscript for the first time. He is therefore known as the first person who dreamt of Chhattisgarh.
  5. In 1924 Raipur Zila Parishad passed a resolution for making a separate Chhattisgarh Province.
  6. In 1939 Pt. Sunderlal Sharma demanded separate Chhattisgarh Province in Tripuri Congress convention.
  7. In 1946 Thakur Pyarelal created Chhattisgarh Shoshan Virodh Manch to campaign for a separate Chhattisgarh Province. This was the first organization for a separate Chhattisgarh.
  8. In 1947 at the time of Independence Chhattisgarh was a part of Central Provinces and Berar.
  9. In 1953 demand of separate Chhattisgarh State was made in the Commission for reorganization of States based on Languages under the chairmanship of Fazal Ali.
  10. Raipur MLA Thakur Ramkrishna Singh demanded separate Chhattisgarh in Madhya Pradesh Vidhan Sabha in 1955. This was the legal effort for a separate Chhattisgarh.
  11. Dr. Khubchand Baghel made Chhattisgarh Mahasabha in 1956 in Rajnandgaon. Dashrath Chowbey was its secretary. In the same year Chhattisgarh was included in Madhya Pradesh when this new state was created.
  12. In 1967 Dr. Khubchand Baghel made Chhattisgarh Bhratitva Sangha with the help of Barrister Chhedilal for a separate Chhattisgarh. Dwarika Prasad Tiwari was its Vice President.
  13. Shankar Guha Niyogi made Chhattisgarh Mukti Morcha in 1976.
  14. In 1983 Shankar Guha Niyogi made Chhattisgarh Sangram Manch and Pavan Diwan made Prithak Chhattisgarh Party.
  15. In 1994 Saja MLA Ravindra Chobey presented a private members resolution for separate Chhattisgarh in Madhya Pradesh Vidhan Sabha. The resolution was passed unanimously.
  16. A Government Official resolution for separate Chhattisgarh was passed on 1st May 1998 in Madhya Pradesh Vidhan Sabha.
  17. On 25th July 2000 Lalkrishna Advani introduced the Bill for creation of Chhattisgarh in Lok Sabha. The bill was passed on 31st July 2000 in Lok Sabha. The bill was introduced in Rajya Sabha on 3rd August 2000. It was passed by the Rajya Sabha on 9th August 2000. President K R Narayan gave his assent on 25th August 2000.
  18. Chhattisgarh State was formed on 1st November 2000 under Article 3 of the Constitution by Madhya Pradesh State Reorganization Act, 2000. Chhattisgarh became the 26th State of India with 3 divisions – Raipur, Bilaspur and Bastar, 16 districts, 96 Tahsils, and 146 blocks. Raipur became the capital of the State and High Court was established in Bilaspur.
  19. The first session of Chhattisgarh Vidhan Sabha took place from 14th December 2000 to 20th December 2000 in Jashpur hall of Rajkumar College Raipur.